AdSense test ad

"पहले से देखा हुआ" || What Is Deja Vu?




"जानकारी"

किया आपको कभी ऐसा लगा हे ! की ओह यह तो मेरे साथ पहले भी हो चूका हे और फिर आप याद करने लग जाते हो की यह कब हुआ था और अचानक से वोह Feeling ( भावना ) चली जाती हे ! ऐसी घटना को हम  Deja Vu कहते हे ! Deja  Vu  एक फ्रांस शब्द हे जिसका अर्थ हे "पहले से देखा हुआ" अंग्रेजी में कहे तो ( Already Seen ) ! ऐसी Feeling ( भावना ) जो आपके साथ हो रहा हे वोह पहले भी कभी हो चूका हे चाहे कभी पहले हुआ हो या कभी आपके सपने में या शायद आपके पिछले जनम में अगर आप इन चीज़ो में मानते हो तो इस Feeling ( भावना ) को हम Deja Vu कहते हे अजीब बात यह हे की Science अभी तक पता नहीं लगा पाई हे की Deja Vu वास्तव में किस के चलते होता हे ! पर बहुत सारी Theory ( सिद्धांत ) हे जो Deja Vu को समझने का दावा करती हे !

Theory ( सिद्धांत )

1 :- Fmiliarity Based Recognition जब भी हम कोई भी चीज़ को देखते हे तो हमारा ( Brain ) दिमाग जांच करने लगता हे की वोह चीज़ हमसे ( Familiar ) परिचित हे की नहीं ! जैसे जब आप Smartphone को देखते हो तब आपका ( Brain ) दिमाग जांच करता हे की इस चीज़ से आप परिचित हे की नहीं ( Brain ) दिमाग यह (Verify) पुष्टि कर लेता हे की हाँ यह चीज़ तो ( Familiar ) परिचित हे तब आपका (Brain) दिमाग का एक हिस्सा ( Hippocampus ) उस ( Memory ) याद को निकलता हे जो उस चीज़ से जुड़ा हुआ हे ! जब आप अपने Smartphone को देखते हो तब आपका (Brain) दिमाग ( Unconsciously ) अचानक उस दिन को भी याद करता हे जब अपने इस Smartphone को पहली बार देखा था और आपका (Brain) दिमाग इस Smartphone से जुड़े हुए बाकी ( Incident ) घटना को भी याद करता हे और इस सब से यह Theory सिद्धांत साबित हो जाता हे की यह चीज़ आपसे परिचित हे ! (Brain) दिमाग के इस प्रक्रिया में जब कुछ लोचा हो जाता हे तब आपका (Brain) दिमाग समझ नहीं पाता हे की उस चीज़ से परिचित हो की नहीं !

जैसे मान लीजिये आप एक नए ( Hill Station ) पहाड़ी इलाका पर गए हो वोह ( Hill Station ) पहाड़ी इलाका आपके लिए नया होता हे पर तब भी आपका (Brain) दिमाग उस लोचे के चलते बोलता हे की यह जगह  परिचित हे  और अचानक आपको लगने लगता हे की इस जगह पर पहले भी आ रखे हो ! आपका  (Brain) दिमाग Out Of Sync हो जाता हे और तब आपको Deja  Vu होता हे 


2 :- The Hologram Theory यह सिद्धांत कहता हे की (Brain) दिमाग की ( Memory) यानी यादे Hologram की जैसी  होती हे मतलब किसी भी याद की एक छोटे से अंश से वोह पूरी  ( Memory) को बना सकती हे में जनता हूँ की आपको यह बात थोड़ी ( Confusing ) भ्रमित लग रही होगी पर में अब आपको इसे साधारण भाषा में बताता हूँ ! 

जब आपके साथ कोई घटना होती हे तब आपका (Brain) दिमाग उस घटने को बहुत सारे हिस्से में ( Record ) करती हे मान लीजिये आपके साथ एक घटना हुई जिसमे जब भी यह घटना घाटी थी तब आपकी Sight थी यानी A गंद थी B और आवाज़ थी C इन तीनो को मिला के एक  ( Memory) बनती हे ABC ! बहुत दिन बाद जब आपके साथ कोई और घटना होती हे  और आपको इन तीनो  वारदात में से दो वारदात होती हे पर तीसरी नहीं तब आप सोचते हो की अरे यह तो मेरे साथ पहले भी कभी हो चूका हे उस समय एक वारदात गायब होती हे पर बाकी दो वारदात के होने के चलते  लगता हे की इससे मिलती जुलती घटना मेरे साथ हो चुकी हे इसका मतलब आपका (Brain) दिमाग उस दो वारदात A और B से ABC को पूरा करने की कोशिश करता हे और शायद इसीलिए आपको चलते deja vu होता हे 

आशा  करता हूँ आप लोग समझ गए होंगे की Deja Vu  किया होता हे अगर नहीं समझे तो आप मुझे Comment Section में अपनी राये बता सकते हो !


Post a Comment

0 Comments