AdSense test ad

"ऐसे शब्द जो आपको सफल बनाने से रोकते है" || Words that prevent you from succeeding !!





जानकारी :-
इस दुनिया में जितने  शब्द है उनके अंदर अलग अलग शक्तियां होती है कुछ सकरात्मक होती है कुछ नकारात्मक होती है !

इस आर्टिकल को एक बार ख़त्म होने तक पढ़ना क्यूंकि ऐसे शब्द है जो आपके जीवन को सफल बनाने से रोकते है ! और कुछ शब्द आपकी ज़िदगी बदल सकते है ! यह इतना लम्बा चिट्टा आपको बोर करने के लिए नहीं है जिससे आप आधा ही पढ़ कर भाग जाओ !

जो में बताने जा रहा हूँ वह समझने की चीज़ है और समझ ऐसी चीज़ है की जिसके अंदर समझ होती है उसको मोटिवेशनल मिले या नहीं कोई फर्क नहीं पड़ता !

जो 2 शब्द में बताने जा रहा हूँ आप जो ज़िन्दगी में पाना चाहते हो वह उसे पाने से रोकता है:-

पहला शब्द 
#1 "काश" यानी "I Hope".
सबसे पहले आप काश शब्द को बोलना बंद करो !
काश का मतलब किया होता है काश मतलब होता है मेरे पास वोह चीज़ नहीं है !
काश मेरे फुल मार्क्स आते !
काश में अमीर होता !
काश में उसे खुश कर पाता !
काश मेरे पास वोह चीज़े होती ब्ला ब्ला ब्ला  !

यह शब्द बोलना बंद करो आसान सी बात है  I Hope ( काश ) सोचने से आपका दिमाग सोचता है की आपको खुद के ऊपर भरोसा नहीं है और आपको खुद पर विश्वास भी नहीं है क्यूंकि अगर आपको अपने ऊपर भरोसा होता की जो आप अपनी ज़िन्दगी में चाहते हो वो आपको मिल जाएगा तो आप कभी काश शब्द का इस्तेमाल नहीं करते !

जब भी में किसी को कहते हुए सुनता हूँ की काश यह होता काश में यह कर पाता ! में समझ जाता हूँ की उसको अपने ऊपर विश्वास नहीं है और वोह ज़िन्दगी में वह चीज़े कभी नहीं पा सकेगा जिसे वह चाहता है ! क्यूंकि ज़िदगी में वही मिलता है जिस पर आप यकीन करते हो की हाँ वोह मुझे मिलेगा यह नहीं की काश वोह मुझे मिल सकता !

आप जो दुनिया अपने सामने देख रहे हो वह आपके भरोसे की दर्पण है ! मतल आपने आज तक जिन चीज़ो पर भरोसा किये हो की हाँ में यह कर सकता हूँ वही चीज़े आपको मिली है ! ना की वह जिसका आप Hope करते आये हो

उदहारण के लिए :-
गौर से समझना आप लोग, मान लो आपने कोई एम चुना अपना, चलो मान लेते है आज आप gym जाने की सोच रहे हो और आपने यकीन दिलाया खुद को की आज में 40kg तक वजन उठा लूंगा तो आप खुद पर भरोसा करके 40kg वजन उठा लेते हो और उस चीज़ को करने के बाद आप अगले दिन फिर अपने आप पर भरोसा दिलाने लग जाते हो जिससे आपका दिमाग सोचता है की आपको खुद के ऊपर भरोसा है !

काश शब्द का साफ़ साफ़ मतलब है की में नहीं मानता की यह मुझे मिल सकता है तो शायद आपके मन में यह सवाल आये की ठीक है तो काश शब्द के बदले किस शब्द का प्रोयग करू !

तो आप काश के बदले आप इस शब्द का इस्तेमाल करो "यकीन" यानी "I know" !
"काश मेरी ज़िन्दगी खुश हाल होती" इसके बदले यह बोलो "मुझे यकीन है के मेरी ज़िन्दगी खुश हाल होगी" !
I Know That I Am Going To Be Happy.

सुभह दो मिनट मैडिटेशन पोज़ में बैठ कर कहो !
"की मुझे यकीन है में टोपर बनूँगा"
"की मुझे यकीन है की मेरी रिलेशनशिप वैसे ही होगी जैसे में चाहता हूँ"
"मुझे यकीन है" "मुझे यकीन है" "मुझे यकीन है"

"काश मेरे पास यह होता"
"मुझे यकीन है की मेरे पास वो ज़रूर होगा"
इन दोनों लाइन को बोलते समय किया आप को अलग लग रहा है की हाँ मुझे काश शब्द का प्रोयग नहीं करके "यकीन" शब्द प्रोयग करना चाहिए ! मतलब दोनों लाइन की ऊर्जा यह काश वाली लाइन नकारात्मक वाली लाइन है और यकीन वाली लाइन कॉन्फिडेंट, पावर, लव और हाई एनर्जी से भरी हुई है तो काश के बदले यकीन का इस्तेमाल करे और देखो आपकी ज़िन्दगी कैसे बदलती है !

दूसरा शब्द 
#2  "नहीं होगा" यानी "I Can't"

में यह नहीं कर सकता !
मुझे यह नहीं हो पायेगा !
में टोपर नहीं बन सकता !
में अमीर नहीं बन सकता !

"नहीं होगा" यह शब्द आपको कभी अपनी ज़िन्दगी में नहीं बोलना चाहिए क्यूंकि जिस चीज़ को देख कर आपको लग रहा है की आपसे नहीं होगा वो चीज़ कोई और कर रहा है और जो दूसरा इंसान वो चीज़ कर रहा है वो भी तो इंसान ही है ना भुत थोड़ी है तब आप भला क्यों नहीं कर पाओगे !

जब आप बोलते हो की मुझसे यह नहीं होगा तब आप किया करते हो पता है आप अपने दिमाग के अंदर न्यूरोन्स के बिच में एक ऐसा कनेक्शन स्ट्रक्चर मतलब एक ऐसी सोच बना लेते हो जिससे आपको यह लगता है की वो चीज़ करना आपके लिए नामुमकिन है और आपका सबकॉन्शियन दिमाग यानी अवचेतन मन जस्ट आपको वही दिखाता है जो आप मानते हो तो "I Can't" "में यह नहीं कर सकता" इसके बदले यह मानना शुरू करो की "I Can" और I Can't का प्रोयग अपनी ज़िन्दगी  में कभी मत करो !

आपका दिमाग जब भी यह बोले आप यह नहीं कर सकते हो तो आप अपने दिमाग को यही बोलो की क्यों नहीं भाई क्यों नहीं और यह कह कर आप अपनी ड्रीम लाइफ को पा सकते हो वोह सब जो आप चाहते हो अच्छी हेल्थ और फिट बॉडी अच्छी रिलेशनशिप अच्छा पैसा क्यों नहीं पा सकते हो इसलिए मुझसे नहीं होगा इसके बदले यह बोलो की मुझसे होगा क्यूंकि नहीं बोलोगे तो ज़िन्दगी भर वो कभी नहीं मिल सकेगा जो आप चाहते हो मगर "मुझसे होगा" बोलोगे तो किसी भी मुकाम को हासिल करने के चांस बड़ जाते है और आपका अवचेतन मन आपकी ज़िन्दगी में वही दिखाने लगता है जो आप देखना चाहते हो

में और लम्बा नहीं ले जाऊँगा आपको बस यह आर्टिकल ख़तम करने से पहले एक बात बताते हुए जाना चाहता हूँ की आप अपनी लाइफ में कभी हार मत मानो और कभी भी नकारात्मक मत सोचो हमेशा खुद पर भरोसा रखो और खुश रहो और अपने माता पिता का नाम करो

"शब्बा खैर"

Post a Comment

0 Comments